Essay on water conservation in Hindi जल सरक्षण पर निबंध

Jal sarakshan essay in hindi/Essay on water conservation in hindi

Essay on water conservation in Hindi जल सरक्षण पर निबंध

Jal sarakshan essay in hindi/Essay on water conservation in hindiपृथ्वी पर जीवन के अस्तित्व के लिए जल अत्यधिक आवश्यक है। जीवित रहने के लिए जल की उतनी ही आवश्यकता है जितनी वायुमण्डल में वायु की। सभी जीवित प्राणी या तो मानव, पौधे या जानवर पूरी तरह से ताजे पीने योग्य पानी पर निर्भर हैं। इस खंड में हम आपके जीवन में पानी के महत्व का विश्लेषण करने के लिए अलग-अलग शब्द सीमा में जल बचाओ जीवन बचाओ पर पांच निबंध प्रस्तुत कर रहे हैं; पृथ्वी पर जीवित प्राणियों के अस्तित्व के लिए जल संरक्षण के समाधान के साथ भी।

जल बचाओ जीवन बचाओ पर लंबा और छोटा निबंध

निम्नलिखित प्रश्नों के उत्तर जानने के लिए आप इन लंबे और छोटे जल बचाओ जीवन निबंधों के माध्यम से जा सकते हैं जैसे कि पानी का महत्व क्या है, जल संरक्षण का महत्व क्या है, सामाजिक जागरूकता के लिए विभिन्न कदम क्या हैं, संरक्षण के समाधान क्या हैं जल, जल कैसे बचाएं जीवन बचाएं विश्व, जल की कमी क्या है, विश्व जल दिवस क्या है, हम क्यों कहते हैं कि जल ही जीवन है, हमें जल बचाने की आवश्यकता क्यों है, जल बचाओ पहल क्या है, जल कैसे बचाएं और कई अधिक। आप अपनी आवश्यकता के अनुसार जल बचाओ जीवन बचाओ पर किसी भी निबंध का चयन कर सकते हैं:

जल बचाओ जीवन बचाओ पर निबंध: जल का महत्व – निबंध 1 (200 शब्द)

वायु के बाद जल पृथ्वी पर सभी जीवित प्राणियों के लिए जीवित रहने वाला दूसरा पदार्थ है। पीने के रूप में उपयोग किए जाने वाले पानी के अलावा, इसके कई उपयोग भी हैं जैसे कि धोना, खाना बनाना, सफाई करना आदि। पानी न केवल जीवित प्राणियों के लिए महत्वपूर्ण है, बल्कि पौधे या पेड़ों के लिए भी महत्वपूर्ण है। यह कीमती तत्व कृषि क्षेत्र के लिए और विभिन्न उद्योगों के लिए भी आवश्यक है।

जल का महत्व

जीवन की शुरुआत से ही पानी इतना महत्वपूर्ण है कि दुनिया में सभी प्रमुख सभ्यता नदी के पास होती है। भारत में प्रमुख शहरों के विकास में नदियाँ महत्वपूर्ण भूमिका निभाती हैं क्योंकि नदी के माध्यम से परिवहन बहुत आसान है। आजकल वैज्ञानिक मंगल ग्रह पर जीवन के बारे में बात कर रहे हैं क्योंकि उन्हें हवा में कुछ जमे हुए पानी और नमी मिली है। वैज्ञानिक अभी भी मंगल पर जीवन की खोज कर रहे हैं, लेकिन मुख्य बात यह है कि पानी की उपलब्धता के कारण हम जीवन की कल्पना कर सकते हैं अन्यथा जीवन की कोई संभावना नहीं है इसलिए हम यह भी कह सकते हैं कि ‘जल ही जीवन है’।

जल पृथ्वी के पारिस्थितिक संतुलन के लिए महत्वपूर्ण है अर्थात समुद्र का जल वाष्पित होकर वायु से जलवाष्प के रूप में जुड़कर बादल में बदल जाता है। जब बादल समुद्र से मैदानी क्षेत्र में स्थानांतरित होता है, और ठंडा हो जाता है, तो यह बारिश में परिवर्तित हो जाता है और नदी और भूजल को फिर से भर देता है।

jal sarakshan nibandh hindiजल बचाओ जीवन बचाओ पर निबंध: जल बचाने का महत्व – निबंध 2 (300 शब्द)

परिचय

‘पृथ्वी पर जीवन बचाने के लिए जल बचाओ’, यह नियम अब हम सभी की प्रमुख आवश्यकता बन गया है। हम सभी जानते हैं कि पानी पृथ्वी पर रहने के लिए हवा जितना ही जरूरी है लेकिन सबसे बुरी बात यह है कि ताजा पानी दिन-ब-दिन कम होता जा रहा है। पानी की कमी के कारण दुनिया में कई प्राकृतिक संकट पैदा हो रहे हैं जैसे सूखा, विभिन्न बीमारियाँ, पर्यावरण प्रदूषण और ग्लोबल वार्मिंग, फिर भी दुनिया की आबादी का एक बड़ा हिस्सा पानी की बचत के महत्व को नहीं समझ रहा है।

जल संरक्षण का महत्व

प्रकृति का चक्र पूरी तरह से पानी पर निर्भर है। जब तक पानी वाष्पित नहीं हो जाता और हवा में मिल नहीं जाता, तब तक पृथ्वी पर बारिश नहीं होगी जिससे फसलों को नुकसान होता है और सभी जगह सूखे की स्थिति खराब हो जाती है। हर जीव चाहे वह इंसान हो, जानवर हो या पेड़-पौधे यहां जीवित रहने के लिए पानी की जरूरत होती है। न केवल पीने के पानी के लिए घरेलू उपयोग जैसे धुलाई, सफाई, मोपिंग, खाना पकाने और यहां तक ​​कि कृषि और औद्योगिक उपयोग के लिए बिजली संयंत्र सहित आवश्यक है।

भारत के कई क्षेत्रों में पानी की मात्रा इतनी कम है कि ताजा पानी भी शून्य के करीब है। उन जगहों पर लोगों को अपने दैनिक उपयोग के लिए पीने योग्य पानी लेने के लिए या तो बहुत अधिक शुल्क लेना पड़ता है या सैकड़ों मील दूर जाना पड़ता है। जल सभी जीवों के लिए इतना महत्वपूर्ण घटक है कि अगर हम अभी भी इसके संरक्षण का उपाय नहीं खोज पाए तो पृथ्वी पर अस्तित्व खतरे में पड़ जाएगा।

शहरीकरण के लिए पानी का उपयोग

शहरी क्षेत्र आमतौर पर नदी के किनारे पाए जाते हैं। प्रत्येक उद्योग को विभिन्न प्रकार के निर्माण के लिए पानी की आवश्यकता होती है जहां पानी का उपयोग किसी उत्पाद को बनाने, प्रसंस्करण, धोने, पतला करने, ठंडा करने या परिवहन के लिए किया जाता है। बिजली उत्पादन के लिए बिजली संयंत्र में पानी के प्रमुख उपयोगों में से एक है।

निष्कर्ष

पृथ्वी पर जल एक असीमित प्राकृतिक संसाधन है जो पुन: चक्रण द्वारा बनता है लेकिन ताजा और पीने योग्य पानी हमारी प्रमुख आवश्यकता है जिसे हमारे सुरक्षित स्वस्थ जीवन के लिए बचाना होगा। पानी बचाने के प्रयास किए बिना, पृथ्वी पर एक दिन जीवन संभव नहीं होगा।

जल बचाओ जीवन बचाओ पर निबंध: सामाजिक जागरूकता – निबंध 3 (400 शब्द)

परिचय

जल पृथ्वी पर सभी जीवों के लिए अनमोल पदार्थ है। कोई पानी के बिना जीने की सोच भी नहीं सकता। यह कहना मुश्किल है लेकिन तथ्य यह है कि पूरे विश्व में पीने योग्य पानी दिन-ब-दिन कम होता जा रहा है, यहां तक ​​कि जहां पृथ्वी 71% पानी से ढकी हुई है। ‘जल बचाओ जीवन बचाओ’ के बारे में जागरूकता फैलाने के लिए विभिन्न देश विभिन्न कार्यक्रमों और कार्यक्रमों का आयोजन कर रहे हैं।
सामाजिक जागरूकता के लिए विभिन्न कदम
वर्तमान समय में हर जगह लोग जल संसाधनों की कमी, भूजल स्तर में गिरावट, दुनिया के कई हिस्सों में सूखा और वर्षा जल संचयन के कार्यान्वयन आदि के बारे में बात कर रहे हैं। जल संसाधनों की कमी अब दुनिया के लिए एक वैश्विक समस्या बन गई है और प्रमुख तथ्य यह है ऐसा तब हो रहा है जब पृथ्वी लगभग 71% पानी से ढकी हुई है। वास्तव में उपयोगी जल केवल 3.5% उपलब्ध है, अन्य महासागरीय जल है जिसका उपयोग नहीं किया जा सकता है।
ऐसे किसी भी मुद्दे का सामना करने और हल करने के लिए सभी के लिए सामाजिक जागरूकता जरूरी है। पानी की कमी के ऐसे वैश्विक मुद्दे को हल करने के लिए अब पूरी दुनिया एकजुट है।
• संयुक्त राष्ट्र (यूएन) ताजे पानी के महत्व को प्रदान करने और ताजे जल संसाधनों के प्रबंधन का समर्थन करने के लिए 22 मार्च को “विश्व जल दिवस” ​​के रूप में मनाता है।
• भारत सरकार (जीओआई) भी लोगों में सामाजिक जागरूकता पैदा करके जल संसाधनों के संवर्धन, संरक्षण और कुशल प्रबंधन के लिए विभिन्न कदम उठा रही है।
• भारत सरकार और राज्य सरकार ने “गंगा और अन्य नदियों” को फिर से जीवंत करने के लिए “पीने ​​के पानी और स्वच्छता मंत्रालय” के लिए समर्पित मंत्री जैसे लोगों में जागरूकता पैदा करने के लिए कई विभाग तैयार किए हैं।
• केंद्रीय भूजल बोर्ड भूजल विकास के नियमन और वर्षा जल संचयन और कृत्रिम पुनर्भरण को बढ़ावा देने के लिए भी कदम उठा रहा है।
• आध्यात्मिक नेता “सद्गुरु जग्गी वासुदेव” ने “नदियों के लिए रैली” अभियान द्वारा जागरूकता पैदा की है। इस अभियान में उन्होंने नदी के किनारों पर कम से कम एक किलोमीटर वृक्षारोपण कर भारत की नदियों को फिर से जीवंत करने का सबसे सरल उपाय बताया। वन वृक्षों को या तो सरकारी भूमि पर लगाया जा सकता है या कृषि भूमि पर लाई गई वृक्ष आधारित कृषि। यह सुनिश्चित करेगा कि हमारी नदियों को साल भर नम मिट्टी से पोषित किया जाए। इससे बाढ़, सूखा और मिट्टी के नुकसान में भी कमी आएगी जिसके परिणामस्वरूप किसानों की आय में भी वृद्धि होगी।
निष्कर्ष
सभी को अपने जीवन में पानी के महत्व और पानी की कमी के दौरान आने वाली समस्या को समझना चाहिए। सरकार और गैर सरकारी संगठन पानी के महत्व के बारे में जागरूकता फैला रहे हैं और दैनिक जीवन में पानी को कैसे बचाया जाए। पानी अनमोल है और हमें इसे बर्बाद नहीं करना चाहिए।

जल बचाओ जीवन बचाओ पर निबंध – निबंध 4 (500 शब्द)

परिचय
ग्लोबल वार्मिंग की सबसे बड़ी समस्या निस्संदेह पृथ्वी पर पानी का एक बड़ा मूल्यह्रास है जो मुख्य रूप से पूरे ग्रह पर पानी के दुरुपयोग के कारण होता है। आज के समय में “जल बचाओ पृथ्वी बचाओ” के सूत्र को समझने की अत्यधिक आवश्यकता है। शुद्ध जल सभी आवश्यकताओं का प्रमुख स्रोत है, जो एक स्वस्थ जीवन जीने के लिए एक जीवित प्राणी चाहता है।
जल संरक्षण के उपाय क्या हैं?
पृथ्वी पर सूखे की सबसे खराब स्थिति को रोकने के लिए पानी का बेहतर और कम उपयोग हमारी आवश्यकता है। इस निबंध में, हम इस बात पर ध्यान केंद्रित करेंगे कि सुंदरता हरियाली वातावरण और सबसे महत्वपूर्ण रूप से पृथ्वी पर जीवन को बचाने के लिए पानी का संरक्षण कैसे किया जाए। यदि हम इस पर गंभीरता से विचार करें तो हमने पाया कि यह बिल्कुल भी कठिन नहीं है। सबसे पहले हमें अपने दैनिक दिनचर्या के जीवन से शुरुआत करनी होगी।
हमारी नई पीढ़ी को “जल बचाओ पृथ्वी बचाओ” के सूत्र को समझने की अत्यधिक आवश्यकता है। हम इसे अपने जीवन के हर सेकंड में बचा सकते हैं। एक छोटा सा कदम पानी की बचत में सैकड़ों गैलन जोड़ सकता है। यहां कुछ बिंदु दिए गए हैं जिन पर हमें अपने दैनिक जीवन में ध्यान देने की आवश्यकता है।
• नियमित गतिविधियों के दौरान थोड़ी सी सावधानी जैसे ब्रश करते समय टैब बंद कर देना, हाथ धोना और शेविंग करना प्रति माह लगभग 160 गैलन पानी की एक बड़ी मात्रा को बचा सकता है।
• नहाने के स्थान पर बाल्टी का प्रयोग भी पानी की बचत के संबंध में आवश्यक कार्य करेगा।
• पौधों को पानी बचाने के लिए दोपहर के बजाय सुबह और शाम के समय पानी देना हमेशा बेहतर उपाय है, हालांकि वसंत के मौसम में पेड़ लगाना भी घोल में जोड़ा जा सकता है।
• अनावश्यक पानी की हानि को रोकने के लिए बिना देरी किए घर में सभी रिसाव को ठीक करना आवश्यक है।
• बाल्टी का उपयोग करने के बजाय, पानी की बचत के मामले में कार को पाइप से धोना हमेशा खराब विकल्प होता है।
• वाशिंग मशीन और डिशवॉशर का उपयोग हमेशा पानी को पूरी तरह से लोड होने की स्थिति में बचाने में मदद करता है।
• अपने घर में पानी के पुनर्चक्रण की सही प्रक्रिया को लागू करना हमेशा पानी बचाने के मामले में एक सही निर्णय साबित होता है, उदाहरण के लिए अन्य घरेलू गतिविधियों में वर्षा जल का पुनर्चक्रण।
जल संरक्षण एक ऐसी चीज है जो प्रकृति और हमारे भविष्य को सुरक्षित और सुरक्षित बनाती है। हम सभी जानते हैं कि दिन-ब-दिन पृथ्वी पर जल का स्तर गिरता जा रहा है जिससे हमारा स्वभाव बुरी तरह से पीड़ित है। हमारी भावी पीढ़ी के स्वस्थ जीवन के लिए जल संरक्षण और उसकी शुद्धता को कैसे बनाए रखना है, यह सीखना और लागू करना बेहतर होगा।

निष्कर्ष

धरती पर उपलब्ध जल की वर्तमान स्थिति को देखने के बाद अब पानी की एक-एक बूंद को बचाने की जरूरत है। जैसा कि हम जानते हैं कि पृथ्वी का ७१% क्षेत्र पानी से ढका हुआ है, लेकिन तथ्य यह है कि केवल ३.५% ही जीवित रहने के लिए उपयोगी के रूप में बचा है, इसलिए यह हमारी प्रमुख आवश्यकता है कि हम अपनी भावी पीढ़ी के लिए पानी के महत्व को बनाए रखने के लिए पानी के महत्व को समझें। प्राकृतिक संसाधनों का चक्र विशेष रूप से पृथ्वी का नीला भाग जो ‘जल’ है।

 

जल बचाओ जीवन बचाओ और विश्व बचाओ पर निबंध – निबंध 5 (600 शब्द)

परिचय

पृथ्वी पर प्रमुख प्राकृतिक संसाधनों में से एक पानी है जो मानव, पशु, पौधे आदि सभी जीवों के लिए पृथ्वी पर सबसे महत्वपूर्ण पदार्थ है। पानी हमारी दैनिक जरूरतों के लिए आवश्यक है, यहां तक ​​कि हम पानी के बिना जीवित रहने की कल्पना भी नहीं कर सकते। हमें हर चीज के लिए पानी की आवश्यकता होती है जैसे कि पीने, खाना पकाने, स्नान करने, सफाई आदि जहां पानी जीवित प्राणियों के लिए जरूरी है, कृषि, विनिर्माण कंपनियों, विभिन्न प्रकार के रासायनिक उद्योगों, बिजली संयंत्रों और कई अन्य क्षेत्रों में भी इसकी बहुत आवश्यकता होती है। अधिक। दुर्भाग्य से आज पृथ्वी पर पानी की कमी पूरी दुनिया के लिए एक बड़ी समस्या बन गई है।

जल बचाओ जीवन बचाओ विश्व बचाओ

जल पृथ्वी पर रहने की प्रमुख आवश्यकता है। जीवन को स्वस्थ और सुरक्षित बनाने के लिए सभी जीवों को जल की आवश्यकता होती है। जैसे-जैसे जनसंख्या दिन-प्रतिदिन बढ़ती जा रही है पानी की खपत भी बढ़ रही है और शहरीकरण के कारण पेड़ नियमित रूप से कम हो रहे हैं जिसके परिणामस्वरूप प्रदूषण, विभिन्न क्षेत्रों में सूखा, क्षतिग्रस्त फसलों और ग्लोबल वार्मिंग की सबसे खराब स्थिति है। इस प्रकार यह समय सभी के लिए जीवन बचाने और दुनिया को बचाने के लिए पानी बचाने की आदत बनाने का है।

पानी की कमी

हमने हमेशा दुनिया के अलग-अलग हिस्सों में पानी की कमी की खबरें सुनी हैं। यहां हम परिभाषित करते हैं कि पानी की कमी क्या है। यह पूरी दुनिया में ताजे जल संसाधनों की भारी कमी या अनुपस्थिति है। आँकड़ों के अनुसार विश्व की एक तिहाई जनसंख्या लगभग 2 बिलियन लोग वर्ष में 1 महीने पानी की कमी की स्थिति में जी रहे हैं, हम भी कह सकते हैं कि पूरे विश्व में आधा बिलियन लोग पूरे वर्ष जल संकट का सामना करते हैं। अब यह घोषित किया गया है कि, दक्षिण अफ्रीका का शहर केप टाउन जल्द ही पानी से बाहर निकलने वाला पहला प्रमुख शहर बनने वाला है।

पानी पृथ्वी पर लगभग 71% जगह घेरता है, फिर भी दुनिया में पानी की भारी कमी है। महासागर में ९६.५% पानी खारा पानी के रूप में होता है जिसका उपयोग मानव द्वारा बिना उपचार के नहीं किया जा सकता है, केवल ३.५% पानी उपयोग के लिए है जो भूजल, ग्लेशियर, नदियों और झीलों आदि के रूप में उपलब्ध है। पानी के ये प्राकृतिक संसाधन हैं। खपत में वृद्धि के कारण बहुत तेजी से घट रहे हैं क्योंकि बढ़ती आबादी से पानी की बर्बादी बढ़ जाती है, तेजी से औद्योगिकीकरण और शहरीकरण होता है। भारत के कुछ हिस्से और अन्य देश पानी की भारी कमी का सामना कर रहे हैं और दुर्भाग्य से सरकार को उन जगहों के लिए सड़क टैंकर या ट्रेन से पानी की व्यवस्था करनी पड़ रही है। भारत में 1951 से 2011 की अवधि के बीच प्रति व्यक्ति पानी की उपलब्धता 70% कम हो गई है और 2050 तक फिर से 22% कम होने की उम्मीद है।

विश्व जल दिवस

संयुक्त राष्ट्र (यूएन) ने ताजे पानी के मूल्य और इसकी अनुपस्थिति के कारण पृथ्वी पर हानिकारक प्रभाव के बारे में लोगों को जागरूक करने के लिए 22 मार्च को “विश्व जल दिवस” ​​​​के रूप में घोषित किया है। इस वर्ष विश्व जल दिवस की 2018 की थीम ‘पानी के लिए प्रकृति’ थी जिसका अर्थ है कि 21वीं सदी में हमारे सामने आने वाली जल चुनौतियों का प्रकृति आधारित समाधान तलाशना।

निष्कर्ष

जल हमारा बहुमूल्य प्राकृतिक संसाधन है जिसे जीवित रहने के लिए प्रत्येक व्यक्ति की आवश्यकता होती है। अगर हम कहें कि ‘जल ही जीवन है’ तो इसमें कुछ भी गलत नहीं है। इस प्रकार हम पानी बचाने पर ध्यान केंद्रित कर रहे हैं जीवन बचाओ और दुनिया को भी बचाओ। पीने योग्य पानी का मतलब है कि मानव उपभोग के लिए पर्याप्त सुरक्षित माने जाने वाले पानी को हमारे भविष्य की संभावनाओं के लिए बचाने की जरूरत है। अपने प्राकृतिक पारिस्थितिकी तंत्र को और अधिक नुकसान से बचाने के लिए और पृथ्वी को ग्लोबल वार्मिंग की स्थिति से बचाने के लिए हमें पानी के संरक्षण और इसमें रसायन या कचरा न मिला कर इसकी गुणवत्ता बनाए रखने की अत्यधिक आवश्यकता है।

जल बचाओ जीवन बचाओ पर निबंध – निबंध 6 (1000 शब्द)

परिचय

जैसा कि हम सभी जानते हैं कि वायु के बाद जल इस ग्रह पर जीवन के अस्तित्व के लिए सबसे महत्वपूर्ण संसाधनों में से एक है। यह अस्तित्व के लिए इतना महत्वपूर्ण है कि हम पानी के बिना जीवन की कल्पना भी नहीं कर सकते। हम सभी जानते हैं कि पृथ्वी की सतह का लगभग 71% हिस्सा पानी से ढका हुआ है, मूल रूप से महासागरों, समुद्रों, नदियों, ग्लेशियरों आदि के रूप में है, लेकिन हमारे पास इतनी बड़ी मात्रा में जल निकाय हैं, लेकिन इसमें से केवल 1% पानी ही स्वच्छ है। और मानव उपभोग के लिए उपयुक्त है।

जल न केवल मानव जाति के अस्तित्व के लिए बल्कि पृथ्वी पर मौजूद अन्य प्रजातियों के लिए भी आवश्यक है। जैविक दृष्टिकोण से पानी में कई गुण होते हैं जो कार्बनिक यौगिकों को प्रतिक्रिया करने और प्रतिकृति की अनुमति देते हैं। जीवन के सभी ज्ञात रूप पानी पर अत्यधिक निर्भर हैं। पृथ्वी पर उपलब्ध स्वच्छ जल की दुर्लभ मात्रा और जल पर प्रजातियों की उच्च निर्भरता को देखते हुए, यह हमारे लिए अत्यंत महत्वपूर्ण हो जाता है कि हम जीवन बचाने के लिए जल बचाएं।

जल ही जीवन है

जल हमारे जीवन का आवश्यक घटक है और हमारा अस्तित्व मुख्य रूप से इसी पर निर्भर है। पानी के बिना जीवन की कल्पना करना संभव नहीं है और अगर हमें जीवन बचाना है तो इसमें कोई शक नहीं कि इसकी शुरुआत हमें पानी बचाने से करनी होगी। पानी खपत के अलावा हमारे दैनिक जीवन का भी एक अभिन्न अंग है, नहाने, खाना पकाने, धोने, बागवानी से लेकर कृषि और औद्योगिक उपयोग तक, पानी हमारी दिनचर्या में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

पृथ्वी पर पशु और वनस्पति भी पानी पर निर्भर हैं और अगर पानी की कमी होगी तो यह उनके विकास और विकास को गंभीर रूप से बाधित करेगा जिससे पारिस्थितिकी तंत्र का संतुलन प्रभावित होगा और खाद्य श्रृंखला टूट जाएगी। इसलिए यह सुनिश्चित करना बहुत महत्वपूर्ण है कि पृथ्वी पर सभी प्रजातियों के अस्तित्व के लिए पानी की उचित आपूर्ति हो।

पानी बचाने की जरूरत

दुनिया भर के कई क्षेत्र कम वर्षा और भूजल के घटने या घटने के कारण अत्यधिक पानी की कमी का सामना कर रहे हैं। कुछ स्थानों पर या तो भूजल दूषित हो गया है या इसका अत्यधिक उपयोग हो गया है और कम वर्षा के कारण इसकी भरपाई नहीं की जा सकी है। इन कारकों ने उन क्षेत्रों में सूखे की स्थिति पैदा कर दी है जिससे पानी की कमी हो गई है।

औद्योगीकरण और शहरीकरण ने उन समस्याओं को भी बढ़ा दिया है जिनके द्वारा आबादी की असाधारण उच्च मांगों को पूरा करने के लिए भूजल का अत्यधिक उपयोग किया गया है। डब्ल्यूएचओ की रिपोर्ट के अनुसार, नौ में से 1 व्यक्ति और लगभग 844 मिलियन के पास अभी भी सुरक्षित पानी नहीं है। आँकड़ों और वर्तमान स्थिति को देखते हुए, भविष्य में जल संकट अपरिहार्य प्रतीत होता है और जल संरक्षण के लिए तत्काल कार्य योजना का आह्वान करता है ताकि हम इस बहुमूल्य संसाधन को आज के साथ-साथ अपनी आने वाली पीढ़ियों के लिए भी बचा सकें।

जल बचाओ पहल

‘पानी बचाओ’ एक पहल है जो पानी के महत्व के बारे में लोगों में जागरूकता फैलाकर और हमारे बेहतर भविष्य के लिए इसे बचाने के लिए पानी के संरक्षण को बढ़ावा देने में मदद करती है। जल बचाओ अभियान लोगों को यह एहसास दिलाता है कि शुद्ध और ताजे पानी के स्रोत बहुत सीमित हैं और यदि इसका अत्यधिक उपयोग किया जाता है तो संभावना है कि वे निकट भविष्य में आबादी की उच्च मांगों को पूरा करने में सक्षम नहीं हो सकते हैं, जो हमारे अस्तित्व पर सवाल खड़ा कर रहे हैं।

यद्यपि पृथ्वी का 71 प्रतिशत भाग जल से ढका हुआ है, परन्तु यह जल प्रत्यक्ष उपभोग के लिए अनुपयुक्त है, इसलिए पृथ्वी पर हमारे पास जो भी ताजा जल है, उसकी एक बूंद भी व्यर्थ किए बिना जिम्मेदारी से उपयोग किया जाना चाहिए। पानी को बचाना और भविष्य के लिए इसे संरक्षित करना हर वैश्विक नागरिक की जिम्मेदारी है क्योंकि जनसंख्या दिन-प्रतिदिन बढ़ रही है लेकिन स्वच्छ पानी के स्रोत वही हैं।

अगर हमें भविष्य में जीवन को बनाए रखने के लिए ताजे पानी की उचित उपलब्धता बनाना है तो हमें आज से ही पानी की बचत शुरू करनी होगी और अपनी दिनचर्या में पानी की बचत की आदतों को शामिल करना होगा तभी हम पानी का संरक्षण कर पाएंगे और पानी की आपूर्ति को बनाए रख पाएंगे। जो क्षेत्र स्वच्छ एवं स्वच्छ जल से वंचित हैं।

पानी बचाओ जिंदगी बचाओ

जैसा कि हम सभी जानते हैं कि जल ही जीवन है और जीवन के सभी ज्ञात रूप पूरी तरह से इसी पर निर्भर हैं। लेकिन अभी भी भारत में लगभग 21 प्रतिशत संचारी रोग असुरक्षित पानी के सेवन के कारण होते हैं और यह स्थिति स्वच्छ पेयजल की कमी के कारण उत्पन्न हुई है। भारत में लगभग 163 मिलियन लोगों के पास अभी भी सुरक्षित पेयजल तक पहुंच नहीं है और वे विभिन्न बीमारियों और महामारियों को खुला निमंत्रण दे रहे हैं जो कभी-कभी घातक हो सकती हैं।

बढ़ती हुई जनसंख्या और स्वच्छ जल की उच्च मांगों को देखते हुए यह आवश्यक है कि हम आज से ही जल का संरक्षण करना शुरू कर दें। यदि भारत का प्रत्येक नागरिक एक दिन में कम से कम एक लीटर पानी की बचत करे, तो निश्चित रूप से यह एक बड़ा बदलाव ला सकता है। आपका एक लीटर बचा हुआ साफ पानी उस बच्चे को जीवन दे सकता है जिसके पास साफ पानी नहीं है। आपके द्वारा बचाए गए पानी का उपयोग उन क्षेत्रों में किया जा सकता है जो उच्च मांगों के कारण पानी की आपूर्ति से वंचित हैं। पानी बचाने के लिए उठाया गया आपका छोटा सा कदम कई लोगों के जीवन में बहुत बड़ा बदलाव ला सकता है।

पानी को कैसे बचायें

जल जीवन के समान है और यदि हम मानव जाति को जीवित रखना चाहते हैं तो हमें पानी बचाने की आदत को अपनी दिनचर्या में सख्ती से शामिल करना होगा। निम्नलिखित कुछ तरीके हैं जो आपको पानी बचाने और बेहतर तरीके से उपयोग करने में मदद करेंगे:

उपयोग न करते समय यानी शेविंग या दांतों को ब्रश करने के दौरान नल को कसकर बंद कर दें।
कम फ्लश वाला शौचालय स्थापित करें जो कम पानी का उपयोग करता हो।
शॉवर बाथ का कम इस्तेमाल करें और इसके बजाय मग और बाल्टी से नहाएं।
कृषि में बाढ़ सिंचाई के स्थान पर ड्रिप सिंचाई का प्रयोग करें।
शाम को अपने बगीचे में पानी दें और अधिक पानी देने से बचें।
सार्वजनिक स्थानों पर चल रहे नलों को बंद कर दें और लीकेज की सूचना तुरंत प्राधिकरण को दें।
अपने भवन और इलाकों में वर्षा जल संचयन प्रणाली स्थापित करें।
आरओ फिल्टर के अपशिष्ट जल का पुन: उपयोग धुलाई या बागवानी उद्देश्यों में करें।
ओवरफ्लो से बचने के लिए ओवरहेड टैंकों में फ्लोट वाल्व स्थापित करें।
निष्कर्ष

पानी जीवन का आधार है, उदाहरण के लिए, यदि आप कुछ दिनों के लिए पानी के साथ एक पैन छोड़ देते हैं तो उसमें से कुछ निश्चित रूप से निकलेगा। इससे पता चलता है कि कैसे पानी पृथ्वी पर जीवन के सभी रूपों का समर्थन करता है। इंसान हों, जानवर हों, पेड़-पौधे हों या कोई अन्य जीव-जंतु, उनका जीवन पूरी तरह से पानी पर ही निर्भर है। यदि उन्हें पानी से वंचित किया जाता है तो प्रजातियों के लिए कम अवधि के लिए भी जीवित रहना मुश्किल हो जाता है। पृथ्वी पर सबसे बुद्धिमान प्रजाति के रूप में यह हमारी प्रमुख जिम्मेदारी है कि हम पानी को बचाएं ताकि पृथ्वी पर सभी प्रकार के जीवन पनप सकें और पारिस्थितिकी तंत्र का उचित संतुलन बनाए रख सकें।

अन्य लेख:https://studdy.in/swachhata-ka-mahatwa-essay-in-hindi/

भारतीय संस्कृति पर निबंध हिंदी में

स्वच्छता का महत्व Essay In Hindi

Essay on History of computers/Evolution of Computers

रेफ: विकी 

Leave a Comment