Children at work Summary in Hindi

Children at work Summary in Hindi, Class 8 It so Happened Chapter 2 Hindi summary

Introduction 

Children at work गीता वुल्फ की एक sensible कहानी है, जो घर से भागे बच्चों के रहने पर केंद्रित है। इस कहानी में वेलु (Velu) नाम का एक लड़का है। वह 11 साल का एक छोटा लड़का है जिसके पिता शराबी हैं। उसके पिता उन्हें और उनकी बहन को मारते थे और उनके द्वारा कमाए गए पैसे को छीन लेते थे। वेलु प्रतिदिन की मार से तंग होकर घर से भागने का फैसला किया। वह पूरे दिन कन्नूर (तमिलनाडु का एक जिला) में टहला, और बाद में कन्याकुमारी एक्सप्रेस में सवार हो गया। कन्याकुमारी एक्सप्रेस उन्हें चेन्नई सेंट्रल स्टेशन ले आई।

चेन्नई सेंट्रल स्टेशन

चेन्नई सेंट्रल स्टेशन एक बहुत बड़ा स्टेशन है। वेलु वहां पहुंचते ही देखा  कि  चारो तरफ लोग अपने सूटकेस उठाये भागे जा रहे हैं, एक लाउडस्पीकर चिल्ला-चिल्ला कर ट्रेनों की घोषणा कर रहा है।  कुछ लोग एक बड़ी टीवी स्क्रीन देख रहे हैं, कुछ प्लेटफॉर्म पर बैठे हैं।  वेलु  एक अनारक्षित डिब्बे में गेट के पास बैठकर चेन्नई आया था। रास्ते में लोगों के एक समूह ने पूरी रात ताश खेला और चिल्लाते रहे थे। रात भर न सोने से वेलु बहुत कमजोर महसूस कर रहा था, और उसके पैर काँप रहे थे। वेलु एक नई जगह में बिलकुल अकेला महसूस कर रहा था. वो एक बेंच पर बैठ गया।

कचरा बिनने वाली (Ragpicker) जया

प्लेटफॉर्म पर एक जया नाम की कचरा बिनने वाली छोटी लड़की ने उसे देखा और उससे बात की। प्रारंभ में, वेलु अनिच्छुक था क्योंकि वह उसके लिए एक अजनबी थी।  जया ने उसे बताया कि वह उसके भोजन की व्यवस्था कर सकती है। वेलू के पास उसके अलावा कोई चारा नहीं था। वेलु उसके पीछे गया। जया उसे व्यस्त ट्रैफिक और धूल से भड़ी सड़कों से ले गयी। वेलु इतनी सारी गाड़ियों से भयभीत था। रास्ते में एक केंद्रीय जेल उसके पास आया। जया ने उसे पुलिस की चेतावनी दी क्योंकि पुलिस वाले कचरा बीनने वालों को अच्छा नहीं समझते हैं।

मैरिज हॉल

अंत में, वे एक मैरिज हॉल में पहुँचे। वहां एक बड़े कचरे का ढेर रखा हुआ था। जया को वहां दो केले और एक वडा मिला। उसने एक केला और वडा वेलु को दिया। वेलु कचड़े में फेंके गए खाने को खाने से हिचक रहा था। लेकिन वह भूखा था, और कोई दूसरा विकल्प नहीं था।

वेलु का नया जॉब

उन्होंने एक साथ खाना खाया। अब जया उसे अपने घर ले गई। यह एक स्लम हाउस था जो टूटी हुई स्टील शीट और अन्य बेकार सामग्री जैसे  पुराना टायर, प्लास्टिक शीट और ईटों आदि से बना हुआ था। जया ने उसे एक बड़ा थैला (sack) दिया और उसे अपनी  मदद करने के लिए कहा। वेलु इस बात को लेकर उत्सुक थीं कि जया बेकार सामग्री क्यों इकट्ठा करती हैं। जया ने समझाया, वह उसे एक कबाड़ी वाले (scrapper) को बेचती है। कबाड़ी वाला इसे फैक्ट्रियों में भेजता है जहाँ इन प्लास्टिक और पेपर से  नए समान बनाये जाते हैं। वेलु कचरा बीनने वाली नौकरी से खुश नहीं था। उसने तय किया कि अगर उसे दूसरी नौकरी मिल गई तो उसी समय वह यह गंदा काम छोड़ देगा।

कहानी से शिक्षा: यह कहानी हमें हर बच्चों के साथ अच्छे से व्यवहार करना सिखाती है और इनकी मदद करने के लिए प्रेरित करती हैं।

Next: Children at work Question Answer.

Children at Work Summary in English.

See also: How the Camel got the hump Summary in Hindi (chapter 1).

The Selfish Giant Summary in Hindi (chapter 3).

 

 

Children at work summary in Hindi

Ref: Trash!: On Ragpicker Children and Recycling.

Leave a Comment